सऊदी सरकार ने इन विभागों में काम करने वाले प्रवासियों को देश से निकालने की करली तैयारी, जल्द लागू होगा “सऊदीकरण”

सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के सुधारों में शुमार “सऊदीकरण” का रंग सऊदी और प्रवासी दोनों पर ही साफ़ नज़र आ रहा है. सऊदी ने मंगलवार को चार खुदरा और थोक क्षेत्रों के आक्रामक “सऊदीकरण” अभियान शुरू किया जिसका मकसद सऊदी से प्रवासी को देश से निकालना है.

 

“सऊदीकरण” को तेज़ी से लागू करने के पीछे सऊदीयों के बीच बढती बेरोज़गारी भी अहम मुद्दा है. इस साल जनवरी से 60,000 प्रवासी नौकरी से हाथ धो बैठे है.

 

मिडिल ईस्ट ऑय के मुताबिक, जनवरी में, श्रम और सामाजिक विकास मंत्रालय ने 12 चरणों में सऊदी नागरिकों को तीन चरणों में रोजगार प्रतिबंधित करने की क्रमिक योजना की घोषणा की, जिसमें से पहला इस महीने शुरू होगया है. कल सऊदी ने 4 विभागों में प्रवासी के काम के खिलाफ जांच शुरू की है.

साथ ही सऊदी सरकार ने घोषणा की है आने वाले नवम्बर में 4 और विभागों में सऊदीकरण लागू किया जाएगा .इसका साफ़ मतलब यह है इन विभागों से अब पूरी तरह प्रवासियों का सफाया होने जा रहा है. इस योजना का लक्ष्य सऊदीयों के बीच बेरोजगारी को कम करना है, वर्तमान में 12.8 प्रतिशत पर खड़ा है, और निजी क्षेत्र के रोजगार को बढ़ावा देकर सार्वजनिक क्षेत्र के मजदूरी बिल को कम करना है.

 

क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के नेतृत्व में सुधार एजेंडा के तहत, सरकार बेरोजगारी को 2030 तक 7 प्रतिशत तक कम करने की मांग करती है.

मंगलवार को, मंत्रालय के निरीक्षकों ने कार और मोटरबाइक शोरूम के लिए तावेन (राष्ट्रीयकरण) योजना के कार्यान्वयन की निगरानी करके पुरुषों और बच्चों के लिए तैयार वस्त्रों की बिक्री, घर और कार्यालय फर्नीचर की दुकानों और किचनवेयर बेचने वाली दुकानों की दुकानों की निगरानी करके पहला चरण शुरू किया.

Leave a Comment