भारतीय कामगार को लेकर कुवैत का बड़ा फ़ैसला, 119 भारतीय बने बंदी, पर अभी अभी आया बड़ा फ़ैसला

कुवैत में 22 भारतीय कैदियों को रिहा किया गया है। साथ ही वहां की कई जेलों में बंद 97 भारतीयों की सजा भी कम की गई है।

भारतीय दूतावास के अधिकारियों ने बताया कि इस सूची में कुल 119 कैदियों के नाम हैं। इनमें 15 कैदी वे भी हैं, जिनकी मौत की सजा को हाल ही में उम्रकैद में बदला गया है।

कुवैत सिटी में भारतीय दूतावास की ओर से जारी बयान के अनुसार, अमीर की ओर से सजा माफ करने के बाद कुवैत में 22 भारतीयों को तुरंत रिहा करने के आदेश जारी किए गए हैं।

53 भारतीय कैदियों की उम्रकैद की सजा कम करके 20 साल कर दी गई है। 18 भारतीयों की सजा तीन चौथाई, 25 की आधी और एक भारतीय की एक चौथाई सजा कम की गई है।

इन सभी कैदियों में अधिकतर को नारकोटिक्स, मादक पदार्थों के सेवन, चोरी, डकैती और धोखाधड़ी के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। जिन भारतीय कैदियों की मौत की सजा उम्रकैद में बदली गई है, वे मादक पदार्थों से संबंधित मामलों में दोषी पाए गए थे।

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने शनिवार को ट्वीट कर कहा था कि कुवैत के अमीर ने वहां की जेल में बंद 15 भारतीयों की मौत की सजा उम्रकैद में तब्दील कर दी है।

Leave a Comment